Home News National News
National News

नयी ​​दिल्ली, 17 मार्च : आज स्थानीय सिरीफोर्ट सभागार में एक भव्य सार्वजनिक समारोह में ‘विश्व शांति-समय की पुकार है’ विषय के ऊपर दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय योग महासम्मेलन का दीप प्रज्योलन के साथ ​शुभारम्भ हुआ।

sirifort4

sirifort3

sirifort2

sirifort

केंद्रीय आयुष मंत्रालय के सहयोग से एवं ​​प्रजापिता ब्रह्मा कुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के द्वारा आयोजित इस उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए प्रसिद्ध प्रेरणादायी आध्यात्मिक वक्ता बी के शिवानी ने कहा की इस सम्मलेन की मुख्य उद्देश्य हे राजयोग की सही व्याख्या एवं इसे प्राप्त आतंरिक शांति, शक्तियां और स्वस्थ्य की सहज और सततः अनुभूति करना।

ऑस्ट्रेलिया से पधारे चार्ल्स हॉग ने कहा योग विशेषकर राजयोग और आध्यात्मिकता ही भारत की विश्व केलिए सबसे बड़ा देन है।

ऑस्ट्रेलिया के सुश्री किम वेनेर के द्वारा स्पेशल योग डांस लोगों को मन्त्र मुग्ध किया। लोगों ने खड़े होकर सुश्री की सम्मान की I

यूरोप से अंटोनी ने अपनी जीवन में राजयोग से हुई सकारत्मक और सुखद परिवर्तन पके बारे में अनुभव वांटा।

यूरोप के ब्रह्मा कुमारिज प्रमुख बी के जयंती ने राजयोग से व्यक्तित्व परिवर्तन और विमारियों के निदान के बारे में चर्चा की.

अमेरिका देश समूह के मुख्या ब्रह्मा कुमारी मोहिनी ने अपनी पचास साल की राजयोग जीवन से अनेकानेक प्राप्तियों और हजारों जनजीवन को सही दिशा प्रदान करने की बात कही।

0 37

This year, Borivali (W) organised a Shivratri ​​spiritual fair from February 22nd to 25th 2017. More than ​8000​ people visited the fair which was organised at the Veer Savarkar Gardens in Borivali. Visitors​ ​spent time viewing the 12 Jyotilingams​ and​​ were given a short spiritual discourse on ‘Stress​ Management​’​ ​, followed by an opportunity to have a personal conversation with a ​Rajyogi on any concern/ challenge in their lives​.

​The fair was followed bya 14 day Rajyoga Meditation Course which was attended by 780 people in three different batches.​​borivali3 borivali2 borivali

0 28

dli4

INTERNATIONAL WOMEN OF COURAGE AWARD
 
On the occasion of  “INTERNATIONAL WOMEN DAY”,  Human Rights Council in association with K. R. Mangalam University,  Gurgaon, Delhi NCR  awarded 7th International Women of Courage Award 2017′ to Rajyogini B.K. Chakradhari Didi, Chairperson of Women’s Wing of Brahma Kumaris. Padamshri Shri DR Karthikeyan, Vice Chancellor of  K. R. Mangalam University Prof. R .K. Mittal and Human Rights Council Chairman Dr. Raju Anthony presented  Awards and Shawls to B.K.Chakradhari.
 
Dr. B.K. Binny, PRO, Global Hospital  nominated as Honoray Director General, International Peace Initiatives for Human Rights Council Global Board of Executives  at  K. R. Mangalam University Delhi. B.K.Chakradhari Bhen and Dr. B.K.Binny during her address to a gathering of eminent personalities  &  students emphasized the important role of women for transformation of society. 
 
Mr. DR Karthikeyan during his address said that the Brahma Kumaris is the only leading Women organization in the World headed by women. The women here are empowered with respect and dignity. Awards were also presented to other leading women Ms Sumana Mukherjee, Ms Manvi Arora and Ms Monica Sharma for their excellent contributions to society.                                                            

dli5

dli2

0 57

किसी भी समाज का विकास महिलाओं की भागीदारी के बिगर संभव नहीं-शमीना शफीक
नारी अबला नहीं बल्कि श1ित है-मनदीप
आध्यात्मिकता से आती है व्यवहार कुशलता -चक्रधारी दीदी
परिवर्तन के लिए निरन्तर प्रयास जरूरी- आशा दीदी
७ मार्च २०१७, गुरूग्राम

ब्रह्माकुमारीज़ के ओम् शान्ति रिट्रीट सेन्टर द्वारा मंगलवार ७ मार्च को अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष में बी बोल्ड फोर चैन्ज विषय पर एक दिवसीय सेमीनार का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में समाज के अनेक प्रतिष्ठित क्षेत्रों से जुड़ी हुई महिलाओं ने शिरकत की।

orc3

orc2

orc

कार्यक्रम में अपने विचार व्य1त करते हुए राष्ट्रीय महिला आयोग की पूर्व सदस्य व पॉवर फाउन्डेशन की अध्यक्ष शमीना शफीक ने कहा कि अगर हम सच में महिलाओं के विकास के लिए कार्य करना चाहते हैं, तो पहले महिलाओं को एक-दूसरे का सहयोग करना बहुत आवश्यक है। आज हम देखते हैं कि समाज में महिलाओं का स्तर काफी बेहतर हुआ है। उन्होंने कहा कि महिलाएं समाज की धुरी हैं, उनके परिवर्तन से ही समाज व देश का विकास संभव है। लेकिन पुरूषों के योगदान के बिना ये संभव नहीं हो सकता।

करोल बाग की पूर्व काउन्सलर मनदीप ने कहा कि हमें स्वयं को कमजोर नहीं समझना चाहिए, नारी स्वयं में एक श1ित है। उन्होंने कहा कि जब हम दूसरों को आगे बढ़ते देख खुश होते हैं, तब हमारी जीवन में बोल्डनेस आती है।

अखिल भारतीय महिला स6मेलन, गुरूग्राम की अध्यक्ष आशा शर्मा ने कहा कि महिलाएं आज तक सिर्फ सुनती आई हैं, लेकिन अभी बदलाव का समय है। उन्होंने कहा कि बोल्ड होने का तात्पर्य है, की चीजें जैसी हैं उन्हें वैसा स्वीकार करना।

सिल्वर लाइनिंग फाउन्डेशन की अध्यक्ष प्रीति मोंगा ने कहा कि मैं ५० वर्षों से नेत्रहीन हँू। मेरे जीवन में कई ऐसे पल आए जब मैंने जीवन को समाप्त करने की ठान ली थी। लेकिन मेरे अन्दर से एक आवाज आती थी कि नहीं एक अवसर और लो। मैंने अन्दर की आवाज को सुनकर बोल्ड निर्णय लिया कि मुझे जीवन में कुछ विशेष करना है। आज मैं उन लोगों के लिए कार्य कर रही हँू जो मेरे जैसे हैं। मेरा यही लक्ष्य है कि मैं स्वयं के परिवर्तन से दूसरों को प्रेरित करूँ।

कार्यक्रम में ब्रह्माकुमारीज़ के महिला प्रभाग की अध्यक्ष राजयोगिनी चक्रधारी दीदी ने अपने संबोधन में कहा कि आज हम महिलाओं के विकास के लिए बहुत कुछ कार्य कर रहे हैं। लेकिन उससे भी अधिक आवश्यकता उन्हें संस्कारवान बनाने की है। उन्होंने कहा कि कई बातें ऐसी होती हैं जिन्हें हम सिखा नहीं सकते लेकिन हमारे व्यवहारिक जीवन से लोग स्वयं ही सीखते हैं। उन्होंने कहा कि आध्यात्मिकता हमें व्यवहार कुशलता के साथ-साथ धैर्यवान भी बनाती है।

इस अवसर पर विशेष रूप ओआरसी की निदेशिका राजयोगिनी आशा दीदी ने अपने अध्यक्षीय संबोधन में कहा कि हमें परिस्थितियों से कभी घबराना नहीं चाहिए। उन्होंने कहा कि समाज में जब भी कोई व्य1ित अच्छा कार्य करता है तो चुनौतियां तो आती ही हैं। हमें उन चुनौतियों का सामना करना है। उन्होंने कहा कि कोई भी परिवर्तन अचानक नहीं आता। हम जिस परिवर्तन को लाना चाहते हैं उसके लिए निरन्तर प्रयास जरूरी है।

0 44

अध्यात्म द्वारा महिलाओं के प्रति मानसिकता का परिवर्तन संभव

bhopal6

 

bhopal3

वर्तमान समय में महिलाओं के शैक्षणिक, सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक स्तर में वांछित सुधार को प्रायः महिला सशक्तिकरण के रूप में देखा जाता रहा है। जब से नारी को अवसर मिला है, उसने सभी क्षेत्रों में अपनी अंतर्निहित क्षमताओं का लोहा मनवा लिया है। नर और नारी की सृष्टि संचालन में अपनी-अपनी अंतर्निर्भर महत्वपूर्ण भूमिका है। इसलिए किसी को भी कम आँकना अपने पैरों में कुल्हाड़ी मारने की तरह मूर्खतापूर्ण है। वास्तव में नर-नारी को एक-दूसरे का पूरक समझ एक-दूसरे का यथोचित सम्मान करना चाहिए। सम्मान की यह संस्कृति ही मानव जाति को सम्मानित करेगी अर्थात् उसे उत्कृष्टता से भर सकेगी। पीढ़ी-दर-पीढ़ी न जाने कितनी पीढ़ियों से नारी को दोयम दर्जा का समझने की मानसिकता को पुरूष प्रधान समाज द्वारा निहित स्वार्थों के चलते पोषा गया है। स्थिति यह हो गई कि समाज में यह मानसिकता आम हो गई और कालान्तर में गहरी बैठ गई है। इस मानसिकता में परिवर्तन लाना और नारी के गरिमामय मूल्य को स्वीकार कर पाना नर और नारी दोनों के लिए ही श्रमसाध्य विषय है। आवश्यकता मात्र मानसिकता में परिवर्तन की है। अध्यात्म वांछित मानसिक परिवर्तन लाने में हमारी कारगर मदद करता है। उक्त विचार प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के क्षेत्रीय मुख्यालय, राजयोग भवन में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर मूल्यनिष्ठ समाज के निर्माण में महिलाओं की भूमिका विषय पर आयोजित महिला सम्मेलन में ब्रह्माकुमारीज की क्षेत्रीय निदेशिका, राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी अवधेश बहन जी ने व्यक्त किये।

0 48

उत्तर प्रदेश के माननीय ​​मुख्यमंत्री अखिलेश यादव जी के मऊ आगमन पर स्थानीय सेवाकेंद्र संचालिका आदरणीय बी के विमला दीदी ने मुख्यमंत्री से मिलकर उन्हें ईश्वरीय सन्देश दिया | मुख्यमंत्री महोदय ने ब्रह्माकुमरिज द्वारा समाज परिवर्तन और मूल्यनिष्ठ जीवन के नव निर्माण में किए जा रहे कार्यों की सराहना की |
mau

0 85

Lucknow10

Lucknow8

Shiv Jayanti a public programme was organized titled “God’s Wisdom for World Transformation” (विश्वपरिवर्तन के लिए ईश्वरीय ज्ञान) on Sunday,  26th February 2017 at City Montessori School, Gomti Nagar Extension, Lucknow (a school which is in the Guinness Book of World Records for the highest number of pupils viz. 52,000 +  ). Approximately 3500 audience had gathered in Auditorium. The Keynote Speaker for the Seva was Respected Rajyogini Jayanti Didi, London  & the Cultural Programme was performed by Ms.Gracy Singh & Troupe of Mumbai. Various Dharma-Gurus and Senior Judge of High Court, Lucknow also participated in programme. more….

Lucknow4 Lucknow2