Home Authors Posts by admin

admin

708 POSTS 0 COMMENTS

0 65
Brahma Kumaris

A World Record Certificate, that is, a Wonder Book of Record Certificate, for a Unique Solar Power Plant with storage in house development was presented to the Brahma Kumaris at their Head Quarters in Diamond Hall, Shantivan.  The “Wonder Book of Records has started in the year 2010 and were presented to many huge personalities,” stated Gurram Swarna Sree, representative of the Wonder Book of Records. “This is the first big solar system in the world which is being used by the Government and for service. The Brahma Kumaris name is now entered for the Mount Abu International Solar System Wonder Book of Record,” she added.

The biggest Solar Thermal Power Plant certificate was presented to BK Yogini, BK Sharada, BK Bharat and BK Mruthyunjaya. BK Yogini was also honored with a medal by the Wonder Book of Records representatives.

0 171

Dadi Janki infographic

Message from Rajyogini Dadi Janki Ji, Chief of Brahma Kumaris

My Dear Brothers and Sisters,
Greetings of Peace and Love!

Cleanliness and sanitation are fundamental to the development of our country, and for the better, brighter and healthier future of our children. In the past four years, India has made rapid strides towards sanitation for all under the Swachh Bharat Mission, which has made sanitation a national people’s movement. It is our responsibility to ensure that we continue to play our part in ensuring cleanliness and sanitation in our surroundings.

As we approach the 149th birth anniversary of Mahatma Gandhi and the fourth anniversary of the Swachh Bharat Mission, the Government of India, under the leadership of Prime Minister Narendra Modi is re-launching the Swachhata Hi Seva mass movement from 15th September leading up to 2nd October 2018. During this period, all of us, citizens of India, should go out and play our part towards making India clean by offering shramdaan for swachhata in our localities and neighborhoods. We should also encourage our relatives, friends, colleagues and neighbors to come out and offer shramdaan by organizing and participating in cleanliness drives.

I expect to interact with the Prime Minister on the morning of 15th September through Video Conferencing, and I will share with him my personal commitment to the cause of a Swachh Bharat, as well as the work being done by the members and followers of Prajapita Brahma Kumaris Ishwariya Vishwa Vidyalaya all over India to keep India clean. The Swachh Bharat Abhiyan will be executed by the Headquarters Committee headed by Joint Chief Dadi Ratan Mohini Ji, Program Manager BK Munni Ji, Secretary General BK Nirwair, Executive Secretary BK Mruthyunjaya, Multi Media Chief BK Karuna and BK Bharat. We are also constituting state wise committees at our centers to execute the cleanliness drives at various places in India. Immediately after the interaction with PM, I will offer shramdaan by leading a cleanliness drive at the Municipal Areas of Abu Road, Mount Abu, Swaroopganj, Palanpur and Ambaji Temple.

I urge all of you to organize similar cleanliness drives on the same day in your localities and neighborhoods, and spread the message of swachhata to one and all. I also urge you to capture pictures of these activities and post these on social media with the hashtag #SHS2018. You may also upload these on MyGov.

Let us ensure that Brahma Kumaris and all our members and followers wholeheartedly participate in Swachhata Hi Seva 2018, and play our role in achieving a Swachh Bharat of Mahatma Gandhi’s dream.

0 84

bussiness wing news (8)


गुणों की लेन-देन का भी व्यापार करें: दादी जानकी
– बिजनेस एवं इंडस्ट्री विंग की नेशनल कॉन्फ्रेंस शुरू
– देशभर से पधारे 8 हजार से अधिक व्यापारी एवं उद्योगपति
– आध्यात्मिक ज्ञानोदय द्वारा व्यापार में स्वर्णिम युग

2 सितंबर, आबू रोड (निप्र)।
ब्रह्माकुमारीज संस्थान के शांतिवन परिसर में चल रही नेशनल कॉन्फ्रेंस में देशभर से करीब आठ हजार से अधिक व्यापारी और उद्योगपति पहुंचे हैं। कॉन्फ्रेंस का आयोजन बिजनेस एवं इंडस्ट्री विंग की ओर से आध्यात्मिक ज्ञानोदय द्वारा व्यापार में स्वर्णिम युग विषय पर आयोजित की गई है।

उद्घाटन सत्र में संबोधित करते हुए मुख्य प्रशासिका दादी जानकी ने कहा कि देशभर से पधारे सभी व्यापारी भाई-बहनों का परमात्मा के घर में दिल से स्वागत है। यहां से सभी एक सबक लेकर जाएं कि आज से एक-दूसरे के गुण ही देखेंगे। गुणों की लेन-देन का ही व्यापार करेंगे। सदा याद रखें मैं एक आत्मा हूं और मेरा साथी, शिक्षक, सद्गुरु एक परमपिता परमात्मा है। जब साथी के साथ होकर चलेंगे तो सदा जीवन सुख-शांति और प्रेम रहेगा। हमारी दृष्टि सदा पवित्र हो। इस ईश्वरीय विश्व विद्यालय में ईश्वरीय पढ़ाई पढ़ाई जाती है। सदा एक-दूसरे को इंस्पायर करते रहें। हमारी जीवन यात्रा में ऐसी बातें हों जो सभी कहें कि जीवन हो तो ऐसा हो। परमात्मा सदा दयालु है। हम सभी परमात्मा के बच्चे हैं।

बिजनेस विंग की नेशनल को-ऑर्डिनेटर राजयोगिनी योगिनी बहन ने कहा कि व्यापारी एवं उद्योगपति भाई-बहनें अपने व्यापार में आध्यात्म को शामिल कर लें तो व्यापार में भी स्वर्णिम युग आ जाएगा। फिर व्यापार भी ईमानदारी और सच्चाई-सफाई का व्यापार बन जाएगा। इस दौरान उन्होंने डॉयमंड हॉल में उपस्थित सभी मेहमानों को राजयोग की गहन अनुभूति भी कराई।

विंग के वॉइस चेयरपर्सन एमएल शर्मा ने अपने जीवन का अनुभव बताते हुए कहा कि मुझे बचपन से ही परमात्मा की खोज थी। ब्रह्माकुमारी•ा से जुड़कर मेरा पूरा जीवन बदल गया। जीवन में कई परेशानियां आईं लेकिन सभी ऐसे निकल गईं जैसे दही में से बाल निकलता है। जब हमारे जीवन में मूल्य होते हैं तो हम जो भी कर्म करते हैं वह भी फलदायी और सुखदायी होते हैं। परमात्मा के आशीर्वाद से आज व्यापार दिन-रात बढ़ रहा है।

प्रसिद्ध बिजनेसमैन सागर जेठानी ने कहा कि ब्रह्माकुमारी•ा से जुड़कर पता चला कि जीवन की असली सक्सेस है खुद को जानना और खुदा को जानना। यदि जीवन में सुख-शांति और आनंद है तो वही जीवन की असली सफलता है। हम कितना भी पैसा कमा लें लेकिन यदि जीवन में आनंद नहीं तो वह पैसा व्यर्थ है।

0 63

मन सुरक्षित तभी तन भी सुरक्षित : राजयोगिनी दिव्या दीदी
आबू पर्वत ( ज्ञान सरोवर ) ३१ अगस्त २०१८.

आज ज्ञान सरोवर स्थित हार्मनी हॉल में ब्रह्माकुमारीज एवं आर ई आर एफ की भगिनी संस्था, “ट्रांसपोर्ट और भ्रमण प्रभाग” के संयुक्त तत्वावधान में एक अखिल भारतीय सम्मेलन का आयोजन हुआ। सम्मलेन का मुख्य विषय था – “स्पीड ,सेफ्टी ,स्पिरिचुअलिटी”. इस सम्मलेन में भारत वर्ष के विभिन्न प्रदेशों से बड़ी संख्या में प्रतिनिधिओं ने भाग लिया। दीप प्रज्वलित करके सम्मेलन का उदघाटन सम्पन्न हुआ।

ट्रांसपोर्ट और ट्रेवल प्रभाग की उपाध्यक्षा राजयोगिनी दिव्या दीदी ने कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए पधारे हुए अतिथिओं को अपना आशीर्वाद प्रदान किया। आपने कहा की आध्यात्मिकता की चाह आपको यहां खींच लायी है – यह प्रमाणित होता है। पूरी दुनिया में भारतीय आध्यात्म का भरपूर सम्मान है। हम सभी को उसकी पहचान अवश्य होनी चाहिए। पहचानेंगे तब तो उसको जीवन में धारणा करेंगे और जीवन में बल बढ़ेगा। आध्यात्म हमें सिखाता है कि कब क्या करना है। जीवन में धैर्यता की भी काफी जरूरत होती है। जीवन को उत्तम बनाने के लिए इसको मूलयवान बनाना जरूरी है। वैल्यूज को अपनाने से हम मूल्यवान बनेंगे। यहां पर आपको उनको अपनाने की विधि बतायी जायेगी। गति जरूरी है मगर सुरक्षा भी जरूरी है। मन की सुरक्षा भी चाहिए। मन सुरक्षित रहेगा तब तन भी सुरक्षित रहेगा। मन की शांति के लिए राजयोग का अभ्यास अनिवार्य है।

ट्रांसपोर्ट और ट्रेवल प्रभाग की राष्ट्रीय संयोजिका ब्रह्मा कुमारी कुंती बहन ने आज के अवसर पर कहा की आज एक चालक हर प्रकार के नियमों का ध्यान रखता है मगर अपनी जाती जिंदगी में वह आपसी रिश्तों की मधुरता बनाये रखने के लिए क्या इतना ध्यान रख पाता है ? सड़क सुरक्षा के लिए शुरुआत खुद से ही करनी होगी। राजयोग हमारी मदद करेगा – सड़क सुरक्षा में सफलता के लिए।

केंद्रीय रेलवे, दिल्ली के मुख्य टेलिकॉम अभियंता एस पी उपाध्याय ने भी आज के अवसर पर अपनी बातें रखीं। आपने कहा की दिनों दिन गति को और तीव्र करने की मांग हो रही है। गति के बढ़ने पर तनाव बढ़ता है। फिर सुरक्षा की जरूरत आ जाती है। उस सुरक्षा के लिए फिर आध्यात्म की जरूरत आती है। आध्यात्म को अपनाने से हमारा ब्रेन शांत और कूल रहता है और सुरक्षा का ध्यान रखने में मदद मिलती है। कर्म सुधारने और जरूरत भर कर्म करते रहने के लिए आध्यात्म अनिवार्य है। हमारे अंदर शक्ति भरती है – आत्म बल बढ़ता है और हम खुद को तथा संसार को सुरक्षित रख पाते हैं। यह स्थान ऐसा आभास दिला रहा है मानो यहाँ साक्षात ईश्वर की उपस्थिति है।

पश्चिमी रेलवे से चीफ कमर्शियल मैनेजर इति पांडेय ने भी आज अपने उदगार प्रकट किये। आपने कहा की मैंने जब से ॐ शांति शब्द सुना है – उसको प्रायः बोलती हूँ और याद करती हूँ। मुंबई में – जहां मैं हूँ, वहाँ शांति की कामना करना एक स्वप्न जैसा है। यह सम्मेलन हमें बताता है की जब हम कार्य रत हैं तब हमें पूर्ण एकाग्रत की स्थति में होना चाहिए। उस एकाग्रता से हम अपनी गति और सुरक्षा के साथ न्याय कर पाएंगे। हमें भावनाओं में बह जाने से बचना चाहिए। आध्यात्मिकता से इसमें मदद मिलेगी।

हरयाणा टूरिज्म कारपोरेशन के महाप्रबंधक दिलावर सिंह जी ने भी अपने विचार प्रकट किये। टूरिज्म के लिए तीन बातें जरूरी हैं। अट्रैक्शन , अकोमोडेशन और ट्रेवल। घर से कहीं के लिए बाहर निकलते ही सुरक्षा की बात भी हमारे दिमाग में आती है। इनके बिना टूरिज्म संभव नहीं है। आध्यात्म से हम सीखते हैं की हमारी एकाग्रता बनी रहे और हमारे जीवन में भी मूल्य बने रहे। सुरक्षा के मानदंडों को हर कीमत पर बनाये रखने की जरूरत है।

भारतीय पुलिस सेवा पदाधिकारी और राजस्थान ट्रैफिक की ए डी जी एस परिमला जी ने भी अपने विचार रखे कहा की दुर्घटनाओं की संख्या काफी बढ़ गयी। ख़ास कर युवा इसके शिकार बन रहे हैं। इससे परिवार की आर्थिक हानि के साथ साथ भावनाओं को काफी ठेश पहुँचती है। आपने सभी से नियमों आदि के पालन का अनुरोध किया।

पूजा मेहरा, कॉर्पोरेट डायरेक्टर , एमपीटी प्राइवेट लिमिटेड ने अपनी बातें कहीं। कहा की स्पिरिचुअल टूरिज्म में काफी संभावना है। हम सभी को उस दिशा में भी काम करना होगा। कार्यक्रम के मध्य में ही संस्थान की मुख्य प्रशासिका दादी जानकी जी का एक वीडियो संदेश सभी को सुनाया गया जिसे सुनकर अतिथि मानसिक रूप से शांति और सुकून की अवस्था में चले गए। ट्रांसपोर्ट और ट्रेवल प्रभाग के मुख्यालय संयोजक बी के सुरेश भाई ने इस प्रभाग द्वारा की जा रही गतिविधिओं की जानकारी प्रदान की। ब्रह्माकुमारी बिंदु बहन ने मंच का संचालन किया। बी के मोतीलाल भाई ने धन्यवाद ज्ञापन किया।