Home News
news

0 0

खेलकूद में बच्चों ने दिखाया उत्साह, सूर्यदेव भी हुए नतमस्तक
बाल व्यक्तित्व विकास शिविर के तीसरे दिन खेलकूद प्रतियोगिता

आबू रोड, 24 मई, निसं। ब्रह्मकुमारीज़ द्वारा आयोजित बाल विकास शिविर के तीसरे दिन प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। जिसमें पूरे भारत से आये बच्चों ने भाग लेकर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया। तेज धूप और भीषण गर्मी की वजह से मंगलवार प्रात: पांच बजे कार्यक्रम आरम्भ हुआ। कार्यक्रम का शुभारम्भ आबू रोड पालिका के चेयरमैन सुरेश सिंदल, प्रभाग के उपाध्यक्ष बीके मृत्युंजय, संस्थान के सूचना निदेशक बीके करूणा तथा बीके भरत के कर कमलों से किया गया।
बच्चों की विभिन्न प्रतियोगिताओं को सम्बोधित करते हुए पालिका चेयरमैन सुरेश सिंदल ने कहा कि इससे बच्चों में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता तो आयेगी ही साथ ही इससे मानसिक और शारीरिक विकास होगा। यह अच्छा प्रयास है इसे और व्यापक स्तर पर करना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंन बच्चों के लिए आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं की व्यवस्थाओं को भी सराहा।
कार्यक्रम में संस्थान के सूचना निदेशक बीके करूणा ने कहा कि पिछले 39 वर्षों से बच्चों के लिए यह कार्यक्रम आयोजित हो रहा है जिससे बड़ी संख्या में बच्चों की जिन्दगी में बदलाव आया है और वे आज अपने अपने क्षेत्र में मूल्योंं के साथ परचम फहरा रहे हैं। प्रभाग के उपाध्यक्ष बीके मृत्युंजय ने इससे एक बच्चों के क्षेत्र में एक उपलब्धि बतायी और कहा कि इस तरह का प्रयास आगे भी जारी रहेगा।
ये रहे विजेता: वैसे तो कई प्रतियोगिताओं का आयेाजन किया गया जिसमें बच्चों को दो समूहों डायमंड तथा एंजल ग्रुप में बांटा गया था। जिसमें डायमंड ग्रुप के बालिकाओं में सौ मीटर की दौड़ में नोएडा की रिया प्रथम, नान्देड़ महाराष्ट की धनेशा द्वितीय तथा नागपुर की असलेषा ने तीसरा स्थान पर रहीं। वही लडक़ों में झुंझनु राजस्थान के अजय प्रथम, दिल्ली के ईशान द्वितीय तथा चन्द्रपुर महाराष्ट्र के साकेत ने तीसरा स्थान जितने में कामयाब रहे। लेमन प्रतियोगिता में डायमंड में बालिकाओं में नन्दूरबार की भावना प्रथम, नडिय़ाद की दिव्या द्वितीय तथा अहमदाबाद की खुशबू तीसरा स्थान प्राप्त करने में कामयाब रही। एंजल ग्रुप में इंदौर की वासिका, दिल्ली की मानीनी द्वितीय और गुजरात उंझा की वानी तृतीय विजेता रही।
मौसम का बदला मिजाज: एक दिन पूर्व तक भीषण गर्मी तथा आग लगा देने वाले गर्मी की तपिश मंगलवार को सुहाने मौसम मं तब्दील हो गयी। जिससे बच्चों के लिए प्रतियोगिताओं का आयोजन सम्भव हो सका। तेज हवाओं के साथ बादलों भरे मौसम से सुहाना हो गया।
मेडिकल की टीम भी उपस्थित: बच्चों के खेलकूद के दौरान चले चार घंटे के कार्यक्रम में चिकित्सकों की टीम उपस्थित रही। बच्चों के लिए नीबू पानी, चाकलेट के साथ ग्लूकोज, पुदीन हरा समेत कई व्यवस्थायें की गयी थी।

0 21

भगवान भाई ने कहा कि 19वीं सदी तर्क की थी, 20वीं सदी प्रगति की रही और 21वीं सदी तनाव पूर्ण होगी। ऐसे तनावपूर्ण परिस्थितियों में तनाव से मुक्त होने सकारात्मक विचारों की आवश्यकता है

उन्होंने बताया कि मन में लगातार चलने वाले नकारात्मक विचारों से दिमाग में विभिन्न प्रकार के रासायनिक पदार्थ उतरकर शरीर में आ जाते हैं। इनसे अनेक बीमारियां होती हैं। मन के नकारात्मक विचारों से मनोबल, आत्मबल कमजोर बन जाता है।

तनाव से आपसी मतभेद

भगवान भाई ने कहा कि जहां तनाव है वहां अनेक समस्याएं बढ़ जाती हैं। तनाव के कारण आपसी मतभेद, टकराव बढ़ जाते हैं। जहां तनाव है वहां मानसिक अशांति के वश होकर मनुष्य व्यसन, नशा, डिप्रेशन के वश हो जाता है। उन्होंने बताया कि मन चलने वाले नकारात्मक विचारों के कारण ही मन में घृण, नफरत, बैर, विरोध, आवेश और क्रोध उत्पन्न होता है।

0 15

ब्रह्माकुमार भगवान भाई ने कहा कि वर्तमान समय कुसंग, सिनेमा, व्यसन और फैशन से युवापीढ़ी भटक रही है। आध्यात्मिक ज्ञान और नैतिक शिक्षा के द्वारा युवा पीढ़ी को नई दिशा मिलसकती है। उन्होंने बताया कि सिनेमा इन्टरनेट व टीवी. के माध्यम से युवा पीढ़ी पर पाश्चात्यसंस्कृति का आघात हो रहा है। इस आघात से युवा पीढ़ी को बचाने की आवश्यकता है। उन्होंनेबताया कि युवा पीढ़ी को कुछ रचनात्मक कार्य सिखाए, तब उनकी शक्ति सही उपयोग में लासकेंगे। वरिष्ठ राजयोगी ब्रह्माकुमार भगवान भाई ने कहा कि हमारे मूल्य हमारी विरासत है। मूल्यकी संस्कृति के कारण भारत की पूरे विश्व में पहचान है। इसलिए नैतिक मूल्य, मानवीय मूल्यों कीपुर्नस्थापना के लिए सभी को सामूहिक रूप में प्रयास करने चाहिए। सकारात्मक चिन्तन का महत्वबताते हुए उन्होंने कहा कि सकारात्मक चिन्तन से समाज में मूल्यों की खुशबू फैलती है।सकारात्मक चिन्तन से जीवन की हर समस्याओं का समाधान होता है। उन्होंने शिक्षा का मूलउद्देश्य बताते हुए कहा कि चरित्रवान, गुणवान बनना ही शिक्षा का उद्देश्य है। उन्होंनेआध्यात्मिकता को मूल्यों का स्रोत बताते हुए कहा कि शांति, एकाग्रता, ईमानदारी, धैर्यता,सहनशीलता आदि सद्गुण मानव जाती का श्रृंगार है।​

0 21

अपनी प्रकृति को समझ कर उसको  ईश्वरीय बल प्रदान करें : राजयोगिनी सरला दीदी 

ज्ञान सरोवर ( आबू पर्वत ),२१ मई २०१६। आज ज्ञान सरोवर स्थित हार्मनी  हॉल में  ब्रह्मा कुमारीज एवं इसकी 

​भगिनी

संस्था, वैज्ञानिक व अभियंता प्रभाग द्वारा एक अखिल भारतीय सम्मलेन का आयोजन किया गया।  इस सम्मलेन का विषय था “प्रकृति उत्सव “. सम्मलेन में देश के विभिन्न भागों से ६०० से भी अधिक वैज्ञानिकों  व अभियंताओं ने भाग  लिया।  दीप प्रज्वलित करके सम्मलेन का उद्घाटन सम्पन्न हुआ। ब्रह्मा कुमारीज वैज्ञानिक व अभियंता प्रभाग की अध्यक्षा तथा गुजरात क्षेत्र की प्रमुख प्रशासिका राजयोगिनी सरला दीदी  जी सहित अनेक गन्य मान्य लोगों ने इसमें भगा लिया। 


ब्रह्मा कुमारीज वैज्ञानिक व अभियंता प्रभाग की अध्यक्षा तथा गुजरात क्षेत्र की प्रमुख प्रशासिका राजयोगिनी सरला दीदी जी ने आज का अध्यक्षीय प्रवचन दिया।  आपने अपना आशीर्वचन इन शब्दों में दिया।  आपने कहा कि आप सभी की हिम्मत की दाद दे रही हूँ क्योंकि आप सभी काफी समय से सुन रहे हैं और ज्ञान बिंदुओं को अपने में समेट रहे हैं।  आप चात्रक पंछी हैं।  सबसे बड़ा वैज्ञानिक और इंजीनियर तो परमात्म ही है।  उसने ही  हम सभी को मिलाया है।  इस मंगल मिलन को हम सभी मना रहे हैं।  उत्सव मना रहे हैं।  प्रकृति उत्सव मना रहे हैं। आज आप सभी को संकल्प करना है कि जीवन में हमेशा उमंग और उत्साह बना रहे।  सके लिए आपको रजयोगा का अभ्यास करना है।  खुद को मजबूत बनना है।  अपनी प्रकृति को समझ कर उसको बल देना है।  परम सत्ता से बल प्राप्त करना है।  यह है राजयोग।
 

पद्म भूषन डॉकटर ए भी रामा राव ने अपना उद्घाटन भाषण देते हुए इस बात के लिए खुशी  प्रकट की कि इतने सुन्दर कार्य क्रम में भाग लेने का उनको अवसर प्राप्त हुआ है।  उन्होंने सभी के प्रति अपना आभार प्रकट किया।  आपने कहा की भारत में विज्ञान एवं तकनीक की शिक्षा पर सही ध्यान नहीं दिया गया है।  भारत की समस्या इसकी जन संख्या नहीं है बल्कि निम्न स्तरीय शिक्षा व्यवस्था है।  घनी आवादी के बावजूद जापान इतनी प्रगति कर पाया क्यों की जापान ने अपनी शिक्षा  व्यवस्था को मजबूत बनाया है।  आपने पूरी शक्ति से  इस बात पर बल दिया की संसार एक अस्तित्व विज्ञान और तकनीक से ही बच पाएगा। 

 
वैज्ञानिक व अभियंता प्रभाग की क्षेत्रीय संयोजक राजयोगिनी गोदावरी दीदी ने आज के अवसर पर अपने उदगार प्रकट किये।  आपने कहा कि संसार में सभी को खुशी चाहिए।  ख़ुशी प्राप्ति के लिए खुद की पहचान जरूरी है।  खुद की प्रकृति को समझ कर और सर्वोच्चा सत्ता से मिलकर संसार की सारी  ख़ुशी प्राप्त कर सकेंगे क्योंकि परमात्मा से संपर्क से मूल्य जीवन में भरेंगे और खुशियां प्राप्त होती रहेंगी।  अपनी विचार धारा  को बदले और प्रकृति उत्सव मनाएं। 
 
वैज्ञानिक व अभियंता प्रभाग के  राष्ट्रीय संयोजक राजयोगी मोहन सिंघल ने कहा कि यह संसार प्रकृति और पुरुष का एक खेल है।  परमात्म परम पुरुष है
और हमारे परम पिता की भूमिका निभाते हैं।  वे हमारे जीवन से भय मिटा ते हैं।   लौकिक पिता भी अपने बच्चों के जीवन से भय मिटाने का काम करते हैं उनको सही दिशा निर्देश देकर।  ईश्वरीय प्रेरणा से हम सर्व प्रथम खुद के साथ सौहार्द  कायम करना सीखते हैं।  फिर प्रकृति के साथ हमारा  सौहार्द  कायम हो ही जाता है।  अपनी चिंतन प्रक्रिया को सही दिशा देकर हम अपना और प्रकृति का उपकार कर सकेंगे 
 
राजेश गोयल ( मैनेजिंग डायरेक्टर,प्रेफब लिमिटेड ,दिल्ली  ) जी ने सुन्दर माहौल के लिए आयोजकों को धन्यवाद दिया।  कहा कि  प्रकृति का अधिक दोहन न करें।  हमने नेचर से खेलना कब से शुरू कर दिया है।  नेचर हमसे इसका बदला लेगी – महाविनाश के रूप में।  हमारे लालच ने सब गड़बड़ कर दिया है।  आतंरिक प्रकृति को ठीक करके हम परिस्थिति बदल सकते हैं।  आतंरिक प्रकृति के बदलाव के लिए ब्रह्मकुमारीज हमें मार्ग दर्शन  दे रही हैं , काफी समय से।  
 
वैज्ञानिक व अभियंता प्रभाग के मुख्यालय संयोजक बी के भरत ने आज  के इस विशेष अवसर पर पधारे हुए सभी  महानुभावों का  वाणी के द्वारा स्वागत किया। आपने पधारे हुए सभी महानुभावों से अनुरोध किया की सभी इस वर्ष कम से कम ५ वृक्ष अवश्य  रोपें।  

0 35

उज्जैन: प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा सिंहसथ में दत्त अखाड़ा क्षेत्र में बडऩगर रोड पर लगाए गए सत्यम शिवम सुन्दरम मेले में अनेक जाने माने संतों ने शिरकत की। सभी ने मेले का अवलोकन किया तथा भव्य चैतन्य झांकी भी देखा।

इसमें रामस्नेही संप्रदाय के प्रमुख, जगत्गुरु स्वामी रामदयाल महाराज, स्वामी विद्यानन्द महाराज, महामण्डलेश्वर स्वामी प्रेमानंद, मुंबई, स्वामी प्रशांतानन्द महाराज, श्री १००८ श्रीमहामण्डलेश्वर श्रीमहंत चंद्रदेवदास, हरिद्वार की कथावाचक साध्वी किशोरी कृष्णा, श्री अखण्ड आश्रम उत्तरकाशी (हिमाचल) की महामण्डलेश्वर साध्वी सुश्री रंजना देवी, 

सिहोर जिला के अमराझिरी आश्रम से पूज्य टाटम्बरी गुरूजी, 

​मानस शक्तिपीठ आश्रम, आलमपुरउडाना की साध्वी हेमलता दीदी सरकार आदि का नाम प्रमुख है.

सर्वोच्च सत्ता ईश्वर का धन्यवाद करते हुए सत्यम शिवम सुंदरम आध्यात्मिक मेले का समापन हुआ

उज्जैन, २२ मई : आज सिंहस्थ २०१६ में प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा दत्त अखाड़ा क्षेत्र बडऩगर रोड में आयोजित सत्यम शिवम सुंदरम आध्यात्मिक मेले का ईश्वर का धन्यवाद करते हुए समापन हो गया। इसके साथ ही नौ चैतन्य देवियों की झांकी का भी संक्षिप्त किन्तु गरिमामयी कार्यक्रम में समापन हो गया।

इस अवसर पर वेदनगर स्थित स्थानीय सेवाकेन्द्र प्रभारी एवं उज्जैन संभाग की संचालिका ब्रह्माकुमारी उषा दीदी जी ने एक माह तक चले बेहद मेले के सफल आयोजन के लिये परमात्मा के साथ साथ, स्थानीय शासन मध्यप्रदेश राज्य तथा उज्जैन नगर पलिका नियम, पुलिस प्रशासन, मीडिया, विद्युत विभाग, टेलीफोन विभाग एवं समस्त शासकीय-अशासकीय संस्थानों के अधिकारियों कर्मचारियों तथा पदाधिकारियों के प्रति संस्था की ओर से धन्यवाद ज्ञापित किया।

६५ लाख लोगों ने आध्यात्मिक मेले का किया अवलोकन

ब्रह्माकुमारी उषा दीदी जी ने इस अवसर पर बताया कि इस एक माह में लगभग ६५ लाख लोगों ने इस चैतन्य देवियों की झॉकी तथा सत्यम शिवम सुंदरम मेले का अवलोकन किया। इनमें से कई लोगों ने ५ दिवसीय राजयोग शिविर का लाभ लिया।

more ……

 

 

0 11

15th All India Bhagvad Gita Conference Begins

‘Adopt Spiritual Lifestyle and Values to Combat Climate Change’- Prof. Kaptan Singh Solanki

Gurgaon, May 21: “Gita  Gyan is not for mere listening or reading, but for contemplating and cultivating  its universal teachings in daily life, to reap its real benefits of holistic health, harmony , happiness and sustainable development in society”

Prof. Kaptan Singh Solanki, Governor of Punjab, Haryana and UT Chandigarh said this while inaugurating a two-day 15th All India Bhagavad Gita Conference on “Spiritual Wisdom for Re-establishing Satyugi Virtuous Wrld” organized by Prajapita Brahma Kumaris Ishwariya Vishwa Vidyalaya at its Omshanti Retreat Center, Pataudi Road, here today.

He said that the real religion is India’s ancient Sanatan Dharma which is not confined to ceremonies, rituals and prayers alone, but to adoption of spiritual lifestyle and universal values like vasudhaiva kutumbakam (world as a family), vishwa bandhutwa (universal brotherhood), live and let live.

“If we can translate such simple living, high thinking and noble values into practical action as enshrined in Bhagvad Gita and as enunciated by our saints and sages thousands of years back, then we can successfully combat and contain the evils of climate change, pollution, poverty and terrorism”, Prof. Solanki stressed.

‘In fact, Incorporeal God of Gita descends on earth to re-establish this real religion or Sanatan Dharma of nobility, civility and humanity which differentiate human beings from animals’, he emphasized.

He urged the august gathering of hundreds of gentry, mahatmas, sadhus, scholars and intellectuals from all over India on this occasion, to emulate Yudhisthir by inculcating positive qualities and to discard Duryodhan by demolishing negative traits if any, in them.

Centurion Rajyogini Dadi Janki, Chief of Brahma Kumaris in her video message from Mount Abu delivered the Bhagvad Gita message of connecting one’s inner self with the Supreme Being in Rajyoga meditation for sublimating human vices and for developing divine virtues in life so as to supplement God’s work of re-establishing Satyugi virtuous world.

Justice V Eshwaraiah, Chairman, National Commission for Backward Classes said that even if named and prayed differently in different religions, God is one incorporeal sentient being who is spiritual father of all souls and who does not have any father or mother unlike human beings or divine deities.

Swami Adhyatmanand Maharaj from Ahmedabad as Guest of Honor said that even though Bhagavad Gita has been variedly interpreted by various authors, its quintessence has remained the same Manmana bhav & Madhyaji bhav which mean to stabilize one’s mind and intellect with the Supreme Soul to elevate one’s life from mundane to divine sphere.

He said that Brahma kumaris are practically implementing the teachings of Gita which aim at restoring truth, peace, love, harmony and happiness in life and society.

Swami Dr Muktanand Puri from Alwar said that every human soul is potentially divine and God of Gita is incorporeal Supreme Soul who is divine light and might.

He urged all to follow the universal message of Gita for re-establishment of Sanatan Dharma  in one’s life and in the world.

Swami Dr Jeevan Dev Maharaj of Jyoti Dham, Rishikesh said that since human life is very rare and most valuable, it should be best utilized through service to saints, sages, weaker, vulnerable and the disadvantaged sections of society.

0 20

आज सत्यम शिवम सुंदरम मेले में केन्द्रीय खाद्य प्रसंस्करण एवं उद्योग राज्य मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने शिरकत की
भारतीय संस्कृति विभिन्नता में एकता का प्रतीक – साध्वी निरंजन ज्योति
उज्जैन, १८ मई: प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा दत्त अखाड़ा क्षेत्र बडऩगर रोड पर लगाए गए सत्यम शिवम सुन्दरम मेले का अवलोकन करने केन्द्रीय खाद्य प्रसंस्करण एवं उद्योग राज्य मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने शिरकत की। उन्होंने पीस ऑफ माइण्ड चैनल के माध्यम से यह संदेश दिया कि भारतीय संस्कृति विभिन्नता में एकता का प्रतीक है। उपासना की पद्घति बहुत हैं परन्तु उन सभी का लक्ष्य एक है। जैसे अनेक नदियां टेढ़ी-मेढ़ी होती हैं परन्तु उनका लक्ष्य होता है समुद्र में मिल जाना उसी प्रकार इस महाकुम्भ में अनेक संत, महात्माएं, अनेक संस्थायें आयी हैं उन सभी का लक्ष्य एक है।
उन्होंने कहा कि ब्रह्माकुमारी संस्थान सभी को सर्व दुखों से निवृत्त कर परमानंद की प्राप्ति कराने का कार्य कर रहा है। हमारा ध्येय है कि भगवान निराकार परमपिता परमात्मा शिव को प्राप्त कर आनंद की प्राप्ति करें। यह संस्थान सभी को इसी आनंद की प्राप्ति कराने का प्रयास कर रहा है।

0 13

साइलेंस की शक्ति से आतंरिक बल बढ़ाना है : राजयोगिनी दादी रत्न मोहिनी जी

ज्ञान सरोवर , (आबू पर्वत ) १३ मई ।आज ज्ञान सरोवर के हार्मनी हॉल में ब्रह्मा कुमारीज एवं आर ई आर एफ की भगिनी संस्था , ​​युवा प्रभाग द्वारा एक अखिल भारतीय सम्मलेन का आयोजन किया गया। इस सम्मलेन का विषय है “ऊंची सोच -युवा की खोज” . यह सम्मलेन ४ दिनों तक जारी रहेगा। इस सम्मेलन में भारत के विभिन्न प्रदेशों से करीब ५०० लोगों ने भाग लिया। इस सम्मलेन का उद्घाटन दीप प्रज्वलित करके समपन्न हुआ. दीेप प्रज्वलन में अनेक गण्य – मान्य प्रतिभागियों ने भाग लिया।

ब्रह्मा कुमारीज युवा प्रभाग की अध्यक्षा एवं संस्थान की संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी रत्न मोहिनी जी ने आज के शुभ अवसर पर अपने आशीर्वचन में कहा कि हमें ये सदैव याद रहे कि मैं कौन , कहाँ से आया और किसका उत्तराधिकारी हूँ ? यानि की मैं किसकी संतान हूँ। इन बातों की जानकारी जरूरी है। हमें अपने संस्कारों पर पूरा ध्यान देना है। हमारे संस्कार ऊंचे होंगे -सोच ऊंची होगी , फिर हम बड़े बड़े कार्य कर पाएंगे। खुद के अंदर साइलेंस की शक्ति से , ईश्वरीय शक्ति से , बल भरना है। निरहंकारिता लानी है। सर्व के प्रति शुभ भावना भी रहे।

ब्रह्मा कुमारीज युवा प्रभाग की राष्ट्रीय समन्वयक राजयोगिनी चन्द्रिका दीदी ने उक्त अवसर पर अपने उद्गार इस प्रकार प्रकट किये। आपने कहा कि सर्व प्रथम हमें यह जानना जरूरी है कि मैं कौन , मेरा कौन और और मेरा क्या कर्म है ? आपने बताया की दादी जानकी जी का ऐसा ही मानना है। दादी जानकी जी इस संस्था की मुख्य प्रसशिका हैं। आपने कहा कि किसी पर आधारित जीवन सुखी नहीं हो सकता है। जीवन निराधार होना चाहिए और सिर्फ उस निराकार परमात्मा पर ही आधारित होना चाहिए। दीदी जी ने कहा कि आपको यह जानकार ख़ुशी होगी की आप यहां परमात्मा की योजना से पधारे हैं। परमात्मा ने किसी भाई या बहन को इसके लिए निम्मित बनाया है। निम्मित चाहे जो हो, पर आप आये हैं परमात्मा की इक्षानुसार। अतः उस परमात्मा को ठीक से जानकर मन को सशक्त बनाना है।

बंगलोर की एक बहु राष्ट्रीय कंपनी के निदेशक एस मुथु कुमार , ने कहा कि मुझे उम्मीद है की हम सभी आने वाले ३ दिनों में यहां से काफी कुछ प्रेरणा दाई बातें प्राप्त करेंगे। आज हमने मन की शांति के बारे में जाना। विश्व की शांति के लिए मन के शांति​,​ आत्मिक शांति जरूरी है।

आबू पर्वत के भाई सौरभ गंगाडिया जी, लायंस के पूर्व अध्यक्ष ,ने कहा कि यहां सकारात्मक ऊर्जा का संचार तीव्र गति से जारी है. आध्यात्मिकता जन्म से हमारे अंदर बीज रूप में समाहित रहती है। ब्रह्मा कुमारियाँ हमारे अंदर की इस शक्ति को प्रकट करने की कोशिश करती रही हैं। अनेक वर्षों से। इसके लिए संस्था को धन्यवाद। इस संस्थान के युवा की एक अलग ही पहचान है। इसका कारण है इनकी जाग्रत आध्यात्मिकता। यही आध्यात्मिकता सभी में जगानी है। मेरी आपसे यही उम्मीद है कि आप अपने अंदर भरपूर ऊर्जा भरेंगे और दुनिया भर में फैलांएंगे।

0 32

ब्रह्माकुमारी के मुलुंड सब जोन द्वारा आयोजित “राजयोग द्वारा स्वस्थ , स्वच्छ , मानव जीवन आध्यात्मिक मेले तथा त्रिदिवसीय राजयोग शिविर का उद्घाटन समारोह बड़े ही धूम धाम से दिनांक १४ मई २०१६ को शाम ६ बजे तलेगांव के ओपन ग्राउंड ,पवार हॉस्पिटल के सामने , चाकन रोड , तलेगांव स्टेशन, के यहाँ हुआ। मुख्य अथिति के रूप में बी. के. गोदावरी दीदीजी ( मुलुंड सब जोन के मुख्य प्रशासिका ), ब्रह्माकुमारी सेवाकेंद्र की मुख्य बहनें तथा शहर के माननीय मेहमान मा. भ्राता श्री कृष्ण राव भेगडे जी ( माजी आमदार ), मा. भ्राता श्री कैलाश गावड़े जी ( मुख्य अधिकारी नगर परिषद तालुका दाभाड़े ), मा. सौ. माया ताई भेगडे ( नगर अध्क्षया ), मा. सौ. सुचित्रा नागरे ( मायमर मेडिकल कॉलेज , डायरेक्टर ), मा. भ्राता एडवोकेट रविन्द्र दाभाडे ( माजी नगर अध्यक्ष ), मा. भ्राता श्री राजेश म्हस्के ( उद्योजक ) आदि उपस्थित रहे। इस ७ दिवसीय मेले के अंतर्गत विविध कार्यक्रमों तथा राजयोग शिविर का आयोजन किया गया है। इस मेले का आयोजन १४ मई २०१६ से २१ मई २०१६ तक किया गया है।

 

0 15

जन आकर्षण का केन्द्र बना,
सत्यम शिवम सुन्दरम मेला
उज्जैन, १४ मई: सिंहस्थ में प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा दत्त अखाड़ा क्षेत्र में बडऩगर रोड पर बना सत्यम शिवम सुन्दरम आध्यात्मिक मेला इन दिनों जन आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है। शिक्षा विज्ञान और अध्यात्म के इस त्रिवेणी संगम को देखने के लिए २० से २५ हजार लोग रोजाना आ रहे हैं।
सिंहस्थ में परम्परागत अखाड़े के साथ-साथ कथावाचक भी आए हुए हैं किन्तु फिर भी ब्रह्माकुमारीज के मेले को देखने के लिए प्रतिदिन जाने-माने सन्तों के अलावा आम जनता की भारी भीड़ जुट रही है। मेले में कुल नौ मण्डप बनाए गए हैं। प्रत्येक मण्डप में विभिन्न विषयों को स्पष्ट करने के लिए चित्रों और मूर्तियों का सहारा लिया गया है। इन सभी मण्डपों का संयोजन इतना दर्शनीय है कि लोग मूर्तियों के साथ फोटो लेने से अपने आपको रोक नहीं पाते हैं।
मेले में चित्रों को समझाने के लिए प्रशिक्षित गाइडों की व्यवस्था की गई है। अध्यात्म की सहायता से गाँव को कैसे आदर्श गाँव बनाया जा सकता है। इसे दर्शाते हुए यहाँ पर एक गोकुल गांव भी बनाया गया है। जहाँ पर बहुत से लोग अपनी बुराइयों का दान करते हुए देखे जा सकते हैं।
चैतन्य देवियों को देखने भीड़ उमड़ रही:
प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा सजाई गई चैतन्य देवियों की झाँकी भी अपनी अलौकिकता के कारण भारी भीड़ खींच रही है। शारीरिक और मानसिक स्थिरता के इस अद्भुत प्रदर्शन को देखकर लोगों के लिए यह निर्णय करना मुश्किल हो जाता है कि यह सजीव हैं या जड़ मूर्तियाँ। इस झाँकी के अन्तर्गत माँ दुर्गा, लक्ष्मी, सरस्वती, गायत्री, जगदम्बा, सन्तोषी माता, उमा देवी और माँ काली की जीवन्त प्रस्तुति को देख लोग अवाक रह जाते हैं। इसकी सबसे बड़ी विशेषता यह है कि प्रत्येक देवी के महत्व एवं परिचय को संगीतमय कमेन्ट्री के माध्यम से बड़े ही रोचक ढंग से समझाया जाता है, जो कि बड़ा ही मनोरम प्रतीत होता है। इसे रोजाना सायं ६ बजे से रात्रि १० बजे के मध्य देखा जा सकता है। कुछ क्षण उस वातावरण में बैठने से दर्शकों को इन देवियों के द्वारा प्रवाहित शान्ति और शक्ति के प्रकम्पनों की अलौकिक अनुभूति होती है।
मेला विदेशियों को भी लुभा रहा:
प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा दत्त अखाड़ा क्षेत्र में बडऩगर रोड पर सिंहस्थ में लगाया गया सत्यम शिवम सुन्दरम आध्यात्मिक मेला सिंहस्थ में आम जनता और साधु-सन्तों के साथ साथ विदेशियों को भी लुभा रहा है। इसी क्रम में आज स्वीडन से आए हुए दस सदस्यीय विदेशियों का दल मेला देखने के लिए आया। सभी ने बहुत ही रूचि के साथ मेला देखा। उन्हें अंग्रेजी भाषा में ब्रह्माकुमारी वासुमती दीदी ने मेला समझाया। जो कि उनके जीवन का अनोखा अनुभव था। मेला देखने के बाद विदेशियों ने कुछ समय राजयोग मेडिटेशन का अभ्यास किया। इस बीच उनकी जिज्ञासाओं का समाधान भी किया गया।

प्रेस विज्ञप्ति २:
सिर्फ कथा सुनने में रूचि न हो, जीवन में बदलाव भी लाएं : साध्वी किशोरी कृष्णा

उज्जैन, १४ मई: हरिद्वार की कथावाचक साध्वी किशोरी कृष्णा ने मेले का अवलोकन करने के बाद अपने विचार रखते हुए कहा कि अपने को सिर्फ कथा सुनने तक ही सीमित नहीं करें बल्कि अपने आपको बदलने का पुरूषार्थ करें। कथा सुनाने के पीछे हमारा यही उद्देश्य होता है कि लोगों के जीवन में बदलाव आए। यहाँ पर कोई भी परमानेन्ट नहीं है। जो आया है वह जाएगा। इसलिए परमार्थ करना शुरू करो।
उन्होंने बतलाया कि वह कथा सुनाने के लिए गाँव-गाँव जाती हैं और उनका अनुभव है कि गाँवों में नारी का सम्मान कम है। शास्त्रों में लिखा है कि जिस घर में नारी का सम्मान नहीं उस घर में देवी-देवता निवास नहीं करते हैं। इसलिए नारी का सम्मान करना सीखें।
उन्होंने कहा कि ब्रह्माकुमारी संस्थान और माउण्ट आबू की बहुत महिमा सुनी थी लेकिन आज प्रत्यक्ष दर्शन करने का सौभाग्य आज मिला। बहुत अच्छा लगा।